PCOS and Homoeopathy

PCOS (पोलिसिस्टिक ओवरी सिंड्रोम) या PCOD (पोलिसिस्टिक ओवरी डिजीज) आज की लाइफस्‍टाइल से जुड़ी किशोरियों की एक आम समस्‍या बनती नज़र आ रही है। शरीर में हार्मोन इंबैलेंस होने की वजह से पीरियड्स अनियमित हो जाते हैं, जिसकी वजह से ओवरी में छोटी-छोटी सिस्‍ट बन जाती है। READ: PCOS से लड़ने के लिये खाएं ये खाघ पदार्थ ओवरी में सिस्‍ट बनने की वजह से लड़कियों की प्रजनन क्षमता पर विपरीत असर पड़ता है। इसके अलावा वजन बढ़ना, चेहरे और पीठ पर मुंहासे, सिर के बाल पतले होना आदि समस्‍या सामने आने लगती है। PCOD/PCOS ठीक करने के लिये कई इलाज मौजूद हैं जिनमें से एलोपैथिक दवा और सर्जरी आम है। पर क्‍या आप जानती हैं कि होमियोपैथी के इलाज से भी PCOS काफी हद तक ठीक किया जा सकता है।

सबसे पहले एक बात जो आपको जाननी चाहिये वह यह कि पोलिसिस्टिक ओवरी सिंड्रोम की बीमारी कभी भी जड़ से नहीं खतम हो सकती। इसे हमेशा कंट्रोल कर के रखना पड़ता है।

1. ऐसे में होम्‍योपैथी का इलाज PCOS की समस्‍या को आगे बढ़ने से कफी हद तक रोकती है। यह हार्मोनल असंतुलन को ठीक कर के मासिक चक्र को नियमित करती है। 2. PCOD/PCOS, की वजह से शरीर में बड़ी तेजी से हार्मोनल बदलता है, जिसकी वजह से शरीर में तरह-तरह के लक्ष PCOD (पोलिसिस्टिक ओवरी डिजीज) आज की लाइफस्‍टाइल से जुड़ी किशोरियों की एक आम समस्‍या बनती नज़र आ रही है। शरीर में हार्मोन इंबैलेंस होने की वजह से पीरियड्स अनियमित हो जाते हैं, जिसकी वजह से ओवरी में छोटी-छोटी सिस्‍ट बन जाती है।   PCOS से लड़ने के लिये खाएं ये खाघ पदार्थ ओवरी में सिस्‍ट बनने की वजह से लड़कियों की प्रजनन क्षमता पर विपरीत असर पड़ता है। इसके अलावा वजन बढ़ना, चेहरे और पीठ पर मुंहासे, सिर के बाल पतले होना आदि समस्‍या सामने आने लगती है। PCOD/PCOS ठीक करने के लिये कई इलाज मौजूद हैं जिनमें से एलोपैथिक दवा और सर्जरी आम है। पर क्‍या आप जानती हैं कि होमियोपैथी के इलाज से भी PCOS काफी हद तक ठीक किया जा सकता है। होम्योपैथी कैसे मदद करती है? सबसे पहले एक बात जो आपको जाननी चाहिये वह यह कि पोलिसिस्टिक ओवरी सिंड्रोम की बीमारी कभी भी जड़ से नहीं खतम हो सकती। इसे हमेशा कंट्रोल कर के रखना पड़ता है।  लड़कियों में बढ़ती पीसीओएस(PCOS) की समस्या 1. ऐसे में होम्‍योपैथी का इलाज PCOS की समस्‍या को आगे बढ़ने से कफी हद तक रोकती है। यह हार्मोनल असंतुलन को ठीक कर के मासिक चक्र को नियमित करती है। 2. PCOD/PCOS, की वजह से शरीर में बड़ी तेजी से हार्मोनल बदलता है, जिसकी वजह से शरीर में तरह-तरह के लक्षण उभरना शुरु हो जाते हैं। पर होम्‍योपैथी के इलाज से शरीर के हार्मोन हमेशा देख-रेख में रहते हैं, जिससे सभी लक्षण प्रभावशाली रूप से कंट्रोल में आ जाते हैं। पर PCOD/PCOS, होम्‍योपैथी से हमेशा के लिये ठीक हो जाएगा, ऐसा कहना मुश्‍किल है।  महिलाओं में हार्मोन असंतुलन को ठीक करे ये आहार 3. होम्‍योपैथी के इलाज में दो PCOD से पीडित महिलाओं को कभी भी एक दवाई नहीं दी जाती है। ऐसा इसलिये क्‍योंकि हर महिला की बीमारी अलग होती है, जिसके लिये व्यक्तिपरक दृष्टिकोण की जरुरत होती है। 4
. केवल होम्‍योपैथी से पूरा इलाज करना संभव नहीं है। इसके लिये स्‍ट्रेस मैनेजमेंट, वेट कंट्रोल, सही दिनचर्या और समय पर दवाई लेना भी जरुरी है।
अगर आप इस बीमारी को दूर करने के लिये कोई अन्‍य इलाज करवा रही हैं और साथ ही में होम्‍योपैथी दवाइयों का भी सेवन करना चाहती हैं तो, आप कर सकती हैं। 6.
होम्योपैथी के साथ जब हार्मोनल असंतुलन नियंत्रित किया जाता है तो, इससे उन उन महिलाओं का बांझपन भी दूर हो जाता है जो प्रेगनेंसी की प्‍लानिंग कर रही हैं। उभरना शुरु हो जाते हैं। पर होम्‍योपैथी के इलाज से शरीर के हार्मोन हमेशा देख-रेख में रहते हैं, जिससे सभी लक्षण प्रभावशाली रूप से कंट्रोल में आ जाते हैं। पर PCOD/PCOS, होम्‍योपैथी से हमेशा के लिये ठीक हो जाएगा, ऐसा कहना मुश्‍किल ह

Leave a Reply

how can we help you?

Contact us at the Consulting WP office nearest to you or submit a business inquiry online.

see our gallery

IF YOU NEED A DOCTOR ? MAKE AN APPOINTMENT NOW!